Covid-19

World and India entry of Covid Delta Plus variants in Hindi

World and India entry of Covid Delta Plus variants in Hindi

कोविड डेल्टा प्लस वेरिएंट की विश्व और भारत में प्रविष्टि

वर्ष 2021 की पहली छमाही में तबाही मचाने वाले कोविड डेल्टा वेरियंट (कोविड-19 वैश्विक महामारी की दूसरी लहर) से अब तक भारत और दुनिया उबर नहीं पाए हैं, इस दौरान कोविड-19 का एक नया वेरियंट आ गया है जिसका नाम “डेल्टा प्लस वेरिएंट” है। है। यह वेरिएंट कोविड डेल्टा वेरिएंट (बी 1.617.2) का म्यूटेंट वर्जन है, जो “डेल्टा” से बदलकर “डेल्टा प्लस” बन गया है, जिसे “ए.वाई1” भी कहा जाता है।

COVID-19 का “डेल्टा प्लस संस्करण” कोविड डेल्टा संस्करण की तुलना में अधिक संक्रामक है, जिसने 2021 की पहली छमाही में तबाही मचाई और तीसरी लहर पैदा हो सकती है। यह प्रकार शरीर में एंटीबॉडी के उत्पादन को धीमा कर सकता है। मानव फेफड़ों की कोशिकाओं को तेजी से संक्रमित कर सकता है। इस संस्करण को भारत सरकार द्वारा “देश के लिए चिंता का विषय” घोषित किया गया है और इस संस्करण से निपटने के प्रयास किए जा रहे हैं।

दुनिया में डेल्टा प्लस वेरिएंट

दुनिया में अब तक अमेरिका, ब्रिटेन, पुर्तगाल, जापान, नेपाल, स्विटजरलैंड, पोलैंड, चीन, रूस और भारत में कोविड डेल्टा प्लस वैरिएंट संक्रमण के मामले पाए गए हैं। दुनिया में अब तक कोविड डेल्टा प्लस वेरियंट के कुल 205 मामले पाए गए हैं, जिनमें से 50 प्रतिशत से अधिक मामले अमेरिका और ब्रिटेन में पाए गए हैं।

भारत में डेल्टा प्लस संस्करण

भारत में कोविड-19 के डेल्टा प्लस संस्करण का पहला मामला 11 जून, 2021 को महाराष्ट्र राज्य में पाया गया था। 23 जून 2021 तक भारत में कुल 40 लोग  कोविड -19 के डेल्टा प्लस संस्करण से संक्रमित पाए गए हैं, जो भारत के 08 राज्यों, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, केरल, कर्नाटक, पंजाब, आंध्र प्रदेश, जम्मू कश्मीर और तमिलनाडु में पाए गए हैं। महाराष्ट्र में 21, मध्य प्रदेश में 06, केरल में 03, तमिलनाडु में 03, कर्नाटक में 02, आंध्र प्रदेश में 01, पंजाब में 01 और जम्मू-कश्मीर में 01 में कोविड -19 का डेल्टा प्लस प्रकार का संक्रमण पाया गया है।  जो विभिन्न अस्पतालों में पाया गया है जिनका गहन इलाज चल रहा है। केरल में मिले उपरोक्त तीन मरीजों में एक 4 साल का बच्चा भी शामिल है। इस प्रकार भारत में कोविड-19 के डेल्टा प्लस वैरिएंट संक्रमण के सर्वाधिक मामले मध्य प्रदेश में दूसरे स्थान पर रहे महाराष्ट्र राज्य में पाए गए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker