News

मानव प्लीहा में शॉक डिस्कवरी मलेरिया

मानव प्लीहा में शॉक डिस्कवरी मलेरिया 

मलेरिया नामक बीमारी मादा एनाफिलीज मच्छर के काटने से मानव शरीर में प्लाज्मोडियम नामक परजीवी के प्रवेश करनें से होता है।हाल ही में शोधकर्ताओं के एक समूह ने लगातार मलेरिया संक्रमण वाले लोगों के शरीर में तिल्ली के अन्दर प्लाज्मोडियम परजीवी को काफी मात्रा में छिपाने की आश्चर्यजनक खोज की है।

मलेरिया को मुख्य रूप से प्लीहा का संक्रमण माना जाना चाहिए, जिसमें रक्त के अंदर केवल एक छोटा सा अनुपात होता है। दो पत्रों में, खो और उनके सहयोगियों ने प्लाज्मोडियम परजीवी की 5 प्रजातियों में से दो की खोज की रिपोर्ट की, जिन्हें व्यक्तियों में मलेरिया को दूर करने के लिए पी0 फाल्सीपेरम और पी0 विवैक्स पहचाना गया।

पी0 फाल्सीपेरम मलेरिया परजीवी का सबसे घातक प्रकार है, पी. विवैक्स बीमारी उन्मूलन में एक बड़ी खामी है; यह उत्तरार्द्ध पूरे विश्व में अधिक व्यापक रूप से फैलता है और बार-बार होने वाले संक्रमण का कारण बनता है। लगातार पी. विवैक्स मलेरिया की परिस्थितियां, जो फिर भी घातक हो सकती हैं, पी. फाल्सीपेरम पर बीमारी प्रशासन की कार्रवाई में सुधार के रूप में बढ़ रही हैं, यह इस बात का संकेत है कि यह भयानक बीमारी हमारे सर्वोत्तम प्रयासों को विफल करती रहती है।

“मलेरिया की दुनिया से छुटकारा पाने के लिए नवीनतम अभियान ने पी0 विवैक्स को सामने रखा है,” वर्ष 2018 ई0 से एक निश्चित पेपर में परजीवी विज्ञानी जॉर्जेस स्नोनौ बताते हैं, “इस मान्यता के साथ कि इसके उन्मूलन के लिए एक अत्यधिक बाधा उत्पन्न होती है।” मॉडल-नए काम में, पहली नज़र – खो के नेतृत्व में – 15 वयस्कों के एक समूह का वर्णन करती है, जिन्होंने मलेरिया के कोई संकेतक नहीं होने की पुष्टि की थी और विभिन्न चिकित्सा कारणों से उनकी तिल्ली को शल्य चिकित्सा से हटा दिया गया था।

रक्त के नमूनों और तिल्ली के ऊतकों में परजीवियों का खुलासा करने के लिए माइक्रोस्कोप और सेल स्टेनिंग का उपयोग करते हुए, शोधकर्ताओं ने पाया कि अधिकांश लोगों की तिल्ली में काफी मात्रा में प्लाज्मोडियम परजीवी थे। शोधकर्ताओं ने मनुष्य की तिल्ली में परजीवियों की बहुत महत्वपूर्ण संख्या को स्वीकार किया, चाहे पीड़ितों में मलेरिया के कोई भी लक्षण न हों।

प्लीहा हमारे रक्त को छानने का काम करती है ताकि पुरानी, ​​क्षतिग्रस्त या दूषित लाल रक्त कोशिकाओं को हटाया जा सके। पी. विवैक्स का स्तर जो हम में से इन तिल्ली में जमा हो गया था, कुछ स्थितियों में बहुत अधिक था। शोधकर्ताओंं के अनुसार- परजीवी पूरी तरह से लाल रक्त कोशिकाओं में प्रतिकृति कर रहे थे कि प्लीहा परिसंचरण से बाहर हो गया था। इस प्रकार यह निष्कर्ष निकला कि- “प्लीहा एक पहले से नहीं पहचाना गया एक ऐसा जलाशय है जहां प्लाज्मोडियम नामक परजीवी छिपे रह सकते हैं और दोबारा मलोरिया नामक बीमारी उत्पन्न कर सकते हैं।”

शोधकर्ता “खो” के अनुसार- मानव प्लीहा के अन्दर परजीवी का संचय मलेरिया फैलाने वाली हर आवश्यक प्लास्मोडियम प्रजातियों के साथ पाया गया था, फिर भी पी0 विवैक्स में विशेष रूप से स्पष्ट था, जहां शरीर के अंदर सभी परजीवी के 98% से अधिक प्लीहा के अंदर छिपे हुए थे। कुछ लोगों के रक्त में मलेरिया परजीवी की इतनी कम मात्रा थी कि यह पता नहीं चल सकता था, हालांकि, उनकी तिल्ली परजीवी-संक्रमित कोशिकाओं से भरी हुई थी।

संक्रामक बीमारी चिकित्सक निक एंस्टी के अनुसार- यह एक बड़ी समस्या है जो रक्त के बड़े पैमाने पर परीक्षण पर निर्भर मलेरिया उन्मूलन पैकेजों की सफलता को सीमित करती है और केवल इनका पता लगाने योग्य संक्रमण के साथ इलाज करती है।

मानव प्लीहा के अन्दर मलेरिया परजीवी प्लाज्मोडियम के छिपे रहने के सम्बन्ध में यह खोज मलेरिया उपचारों और वैक्सीन उम्मीदवारों में मूल्यांकन को अधिक से अधिक मजबूत करेगा जो प्लाज्मोडियम जीवन चक्र के पूरी तरह से अलग-अलग चरणों पर हमला करते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker